डिजिटल मार्केटिंग क्या है, कोर्स और करियर कैसे शुरू करें? पूरी जानकारी हिंदी में

डिजिटल मार्केटिंग क्या है, कोर्स और करियर कैसे शुरू करें? पूरी जानकारी हिंदी में

डिजिटल मार्केटिंग से तात्पर्य ऐसी मार्केटिंग से है जो वैश्विक स्तर पर विभिन्न प्रकार के उत्पादों और सेवा को ऑनलाइन तकनीक की मदद से स्मार्टफोन, कंप्यूटर और टैबलेट के द्वारा जनता तक पहुँचाने का काम करती है। समय बदल रहा है, कि इस प्रौद्योगिकी की मदद से कंपनी अपने उत्पादों और सेवाओं के विज्ञापन के जरिये जनता तक पहुंचा रहे हैं और अच्छे परिणाम मिल रहे हैं।

Table of Contents hide

डिजिटल मार्केटिंग क्या है इन हिंदी [What is Digital Marketing in hindi]

डिजिटल मार्केटिंग, मार्केटिंग उत्पादों या सेवाओं का एक ऐसा रूप है जिसमें मोबाइल, लैपटॉप, टैबलेट, कम्प्यूटर्स जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरण शामिल होते हैं।

आज से कुछ ही वर्ष पहले हमे विज्ञापन सिर्फ अखबार में ही देखने को मिलते थे परंतु आज इंटरनेट का इस्तेमाल बढ़ने के कारन विज्ञापन हमे अपने टीवी, मोबाइल, लैपटॉप और कंप्यूटर पर देखने को मिल जाते हैं। इस तरह विभिन्न प्रकार के उत्पादों और सेवा के विज्ञापन को जनता तक पहुँचाने वाली तकनीक को डिजिटल मार्केटिंग कहते हैं।

डिजिटल मार्केटिंग तकनीक से पहले विज्ञापन सभी लोगों को दिखाई देते थे चाहे उसे उत्पाद की जरुरत हो या नहीं, जिसकी वजह से कंपनी का बहुत सारा पैसा लगता था और नतीजा बहुत कम आता था। डिजिटल मार्केटिंग की मदद से हम विज्ञापन सिर्फ उसी व्यक्ति को दिखा सकते हैं जिसे उस उत्पाद और सेवा के बारे में इंटरनेट पर सर्च किया हो।

डिजिटल मार्केटिंग का महत्व [Importance of Digital Marketing]

ऑनलाइन मार्केटिंग आपकी व्यावसायिक रणनीति के सबसे महत्वपूर्ण भागों में से एक है। यह आपको जनता तक अपनी बात पहुंचाने, नए ग्राहक खोजने और खोज इंजन पर आपकी दृश्यता में सुधार करने में मदद करता है। इंटरनेट खुदरा विक्रेताओं को अपने मौजूदा व्यवसायों में ऑनलाइन मार्केटिंग को एकीकृत करने या ऑनलाइन व्यवसाय बनाने का एक उत्कृष्ट अवसर प्रदान करता है।

डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार [Types of Digital Marketing]

डिजिटल मार्केटिंग क्या है (What is Digital Marketing)

डिजिटल मार्केटिंग मुख्य रूप से इंटरनेट पर डिजिटल तकनीकों का उपयोग करके उत्पादों या सेवाओं का विस्तार है, इसमें मोबाइल फोन, प्रदर्शन विज्ञापन (Banners) और अन्य डिजिटल माध्यम भी शामिल है।

1. कंटेंट मार्केटिंग (Content Marketing)

कंटेंट मार्केटिंग, इंटरनेट मार्केटिंग विज्ञापन और मार्केटिंग संचार प्रयासों का एक संयोजन है जिसे बढ़ावा देने या बेचने के लिए डिज़ाइन किया गया है। कंटेंट मार्केटिंग और विज्ञापन मार्केटिंग का एक रूप है जिसके बारे में आप बहुत ज्यादा नहीं जानते होंगे। जबकि विज्ञापनों पर बहुत अधिक ध्यान दिया जाता है, अधिकांश व्यवसाय स्वामी सोचते हैं कि केवल पर्याप्त जानकारी प्रदान करना ही पर्याप्त है। हालाँकि, वेबसाइट ट्रैफ़िक बढ़ाने और नियमित खरीदारों को प्रोत्साहित करने के तरीके के रूप में कंटेंट मार्केटिंग अधिक से अधिक लोकप्रिय हो रहा है।

2. सोशल मीडिया मार्केटिंग – SMM (Social Media Marketing)

सोशल मीडिया मार्केटिंग उत्पाद के सभी पहलुओं को बढ़ावा देने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म जैसे फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम आदि का उपयोग करने की प्रक्रिया है, जिसमें उत्पाद, उत्पाद के पीछे का ब्रांड और स्वयं मार्केटिंग शामिल हैं। हम सोशल मीडिया पर फोटोज, बैनर्स, पोस्ट और वेबसाइट लिंक आदि पोस्ट करके मार्केटिंग करते हैं।

3. सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन – SEO (Search Engine Optimization)

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन या SEO इंटरनेट के सर्च इंजन के साथ जुड़ा होता है। सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन की मदद से एक वेबसाइट को सर्च इंजन रैंकिंग में उच्च स्तर पर ले जाया सकता है।

छोटे व्यवसाय के लिए सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन होना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि कई व्यवसाय मालिकों को यह पता नहीं होता है कि सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (एसईओ – SEO) उनकी कंपनी की वेबसाइट को Google के पहले कुछ पृष्ठों पर लाने की कुंजी है।

4. ईमेल मार्केटिंग (Email marketing)

ईमेल मार्केटिंग को अभी भी किसी भी विक्रेता के शस्त्रागार में एक अत्यधिक शक्तिशाली हथियार माना जाता है। हालाँकि, बहुत सारे व्यवसायी अभी भी इसे एक ऐसे चैनल के रूप में मानते हैं जिसमें महारत हासिल करने में बहुत समय और प्रयास लगता है। वास्तव में ईमेल मार्केटिंग डिजिटल मार्केटिंग का बहुत ही जबरदस्त हिस्सा है।

5. एफिलिएट मार्केटिंग (Affiliate Marketing)

एफिलिएट मार्केटिंग इंटरनेट मार्केटिंग का एक रूप है जो मार्केटिंग करने वालो को को बिक्री प्राप्त करने के लिए पुरस्कृत करता है जो वे लिंक या विज्ञापनों के माध्यम से उत्पन्न करते हैं। एफिलिएट मार्केटिंग सबसे तेजी से बढ़ते ऑनलाइन मार्केटिंग चैनलों में से एक है। इस मार्केटिंग अभियान में कीवर्ड पहचान, कंपनी चयन, एफिलिएट मार्केटिंग टूल्स , कन्वर्शन , परफॉरमेंस ट्रैकिंग और परिणाम विश्लेषण जैसे विभिन्न कार्य शामिल हैं।

डिजिटल मार्केटिंग के फायदे और नुकसान [Advantages and disadvantages of digital marketing]

डिजिटल मार्केटिंग एक किफायती मूल्य पर बड़े पैमाने पर बाजार तक पहुंच प्रदान करके सभी आकार के व्यवसायों को लाभान्वित करती है। टीवी या प्रिंट विज्ञापन के विपरीत, यह वास्तव में व्यक्तिगत मार्केटिंग की अनुमति देता है। डिजिटल मार्केटिंग भी कई चुनौतियों के साथ आती है जिनसे आपको अवगत होना चाहिए।

डिजिटल मार्केटिंग के फायदे और नुकसान [Advantages and disadvantages of digital marketing]

डिजिटल मार्केटिंग के फायदे [Digital marketing benefits]

लघु व्यवसाय मार्केटिंग को दो अलग-अलग तरीकों से नियंत्रित किया जा सकता है। भौतिक दुनिया में पारंपरिक मार्केटिंग के तरीके और ऑनलाइन दुनिया में डिजिटल मार्केटिंग। भौतिक दुनिया में मार्केटिंग के लिए धन और मानव संसाधनों के भारी निवेश की आवश्यकता होती है। डिजिटल मार्केटिंग आपके व्यवसाय को सही नजरिए के सामने लाने में लागत और समय बचाने में आपकी मदद कर सकती है।

1. सीखने में आसान (Easy to Learn)

जबकि डिजिटल मार्केटिंग के कई पहलू हैं जिन्हें आपको सीखने की जरूरत है, इसे शुरू करना काफी आसान है। यह लक्ष्यों की प्रकृति और अभियानों के पैमाने में अधिक जटिल हो जाता है। हालाँकि, यह सही रणनीति खोजने की बात है जो आपके व्यवसाय के लिए काम करती है।

2. कम लागत (Lower Cost)

चाहे आप स्थानीय या अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपने व्यवसाय को बढ़ावा देना चाहते हैं, डिजिटल मार्केटिंग आपको लागत प्रभावी समाधान प्रदान करती है। यह सबसे छोटी कंपनियों को भी अत्यधिक लक्षित रणनीतियों का उपयोग करके बड़ी कंपनियों के साथ प्रतिस्पर्धा करने की अनुमति देता है। इनमें से अधिकांश रणनीतियों को शुरू करने के लिए कुछ भी खर्च नहीं करना पड़ेगा (जैसे एसईओ, सोशल मीडिया और सामग्री विपणन)। हालाँकि, डिजिटल मार्केटिंग का हर रूप हर व्यवसाय के लिए उपयुक्त नहीं है और कुछ की लागत दूसरों की तुलना में अधिक भी हो सकती है।

3. वैश्विक पहुंच (Global Reach)

एक अंतरराष्ट्रीय मार्केटिंग अभियान बनाना कठिन, महंगा और साथ ही श्रम-गहन हो सकता है। हालाँकि, इंटरनेट पर डिजिटल मार्केटिंग होती है, जिसका अर्थ है कि आप इसके साथ जो पहुँच प्राप्त कर सकते हैं वह बहुत अधिक है। यहां तक ​​कि एक बहुत छोटा स्थानीय व्यवसाय स्वामी भी एक ऑनलाइन स्टोर के साथ अंतरराष्ट्रीय दर्शकों तक पहुंचने की क्षमता रखता है।

इस ऑनलाइन पहुंच ने व्यवसायों को तलाशने के लिए विकास के कई अवसर खोले हैं। वैश्विक पहुंच और दृश्यता का संयोजन किसी भी व्यवसाय के लिए एक शानदार अवसर है।

डिजिटल मार्केटिंग के नुकसान [Digital Marketing Disadvantages]

1. उच्च प्रतिस्पर्धा (High Competiton)

डिजिटल मार्केटिंग अभियान (Campaign) के बारे में अच्छी तरह से सोचा जाना चाहिए, बाहर खड़ा होना चाहिए, ध्यान आकर्षित करना चाहिए और लक्षित दर्शकों पर प्रभाव पैदा करना चाहिए क्योंकि हाल के दिनों में प्रतियोगिता (Competition) कई गुना बढ़ गई है।

कोई भी नीरस दृष्टिकोण या दोहराया गया तरीका कुछ ही समय में ब्रांड को प्रतियोगिता से बाहर कर देगा। डिजिटल मार्केटिंग अभियान बहुत प्रतिस्पर्धी (competitor) हो गए हैं, इस प्रकार ब्रांडों को ग्राहकों की जरूरतों के लिए प्रासंगिक होना चाहिए और प्रतिक्रिया देने में तेज होना चाहिए।

2. समय लेने वाला (Time Consuming)

डिजिटल मार्केटिंग अभियानों का सबसे बड़ा नुकसान उनकी समय लेने वाली प्रकृति है। असंगठित रणनीति और रणनीतियों (Strategies) में बहुत समय लग सकता है और अक्सर अभियान के लिए वांछित समय देना मुश्किल हो जाता है। यह अंततः नकारात्मक परिणाम देगा। इसलिए, एक रणनीति पर ध्यान केंद्रित करने का सुझाव दिया गया है जिसकी कंपनी को सबसे ज्यादा जरूरत है और फिर उसके अनुसार सामग्री की योजना और क्यूरेट करें।

3. कौशल और प्रशिक्षण (Skills and training)

आपको यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता होगी कि आपको या आपके कर्मचारियों के पास डिजिटल मार्केटिंग को सफलता के साथ करने के लिए सही ज्ञान और विशेषज्ञता (Specialization) है। टूल, प्लेटफ़ॉर्म और रुझान तेज़ी से बदलते हैं और यह महत्वपूर्ण है कि आप अप-टू-डेट रहें।

डिजिटल मार्केटिंग में करियर

डिजिटल मार्केटिंग में करियर आपको पूरी तरह से नया दृष्टिकोण दे सकता है और आप जल्द ही सफल हो सकते हैं। आपको आश्चर्य हो सकता है कि डिजिटल मार्केटिंग में करियर कितना फायदेमंद हो सकता है।

डिजिटल मार्केटिंग में कोर्स, करियर स्कोप, जॉब और सैलरी कितनी है? (What is the course, career scope, job and salary in digital marketing)

डिजिटल मार्केटिंग कोर्स कैसे करे इन हिंदी [How to do Digital Marketing Course]

डिजिटल मार्केटिंग पाठ्यक्रम और प्रमाणन कार्यक्रम (Courses and Certification Programs) लेने की लोकप्रियता हाल के दिनों में बहुत अधिक है। और, यह हर दूसरे पेशेवर पाठ्यक्रम की तुलना में एक उच्च प्रवृत्ति पर है। अपने करियर के अवसरों को बढ़ाने के लिए, डिजिटल मार्केटिंग कोर्स सबसे अच्छे हैं, 2022 में डिजिटल मार्केटिंग कोर्स करना आपके लिए एक बेहतर विकल्प है।

आप मार्केटिंग के कई अलग-अलग पहलुओं में शामिल रह सकते हैं और टीम के एक मूल्यवान सदस्य बन सकते हैं। निम्नलिखित उन पाठ्यक्रमों की सूची है जो Udemy पर पेश किए जाते हैं।

  1. Digital Marketing: The Ultimate Guide to Strategic Marketing
  2. Digital Marketing: How to Generate Sales Leads
  3. Digital Advertising and Marketing 101: The Complete Guide
  4. The Complete Digital Marketing Course – 12 Courses in 1
  5. Growth Hacking with Digital Marketing (Version 7.4)

डिजिटल मार्केटिंग कोर्स फीस [Digital Marketing Course fees]

अब आप डिजिटल मार्केटिंग कोर्स घर बैठे कर सकते हैं। ये कोर्सेज बहुत सस्ते होते हैं, अगर आप Udemy पर कोर्स घर बैठे ऑनलाइन करते सकते हैं वो भी बहुत कम कीमत पर अगर आप डिजिटल मार्केटिंग कोर्स को किसी इंस्टिट्यूट से करना चाहते आपको काफी ज्यादा फीस देनी पड़ सकती है Udemy पर कोर्स ₹399 से शुरू हो जाते और इंस्टिट्यूट की फीस ₹5000 से शुरू होती है।

यह भी पढ़ें: डिजिटल मार्केटिंग कोर्स फीस (Digital marketing course price 2022)

डिजिटल मार्केटिंग कोर्स कितने महीने का होता है?

डिजिटल मार्केटिंग कोर्स कम से कम 3 महीने का होता है और यह आप पर निर्भर करता है कि आप कौन सा कौशल (skill) सीखना चाहते हैं और आपके कौशल के आधार पर ही आपको नौकरी और सैलरी मिलेगी साधारण भाषा में आपके पास जितने ज्यादा स्किल्स होंगे उतना ही आपको अच्छा वतन मिलेगा।

सम्पूर्ण डिजिटल मार्केटिंग कोर्स करने के लिए कम से कम आपको 1 साल का कोर्स लेना होगा वो भी किसी अच्छे संस्थान से उसके बाद आप पूर्ण रूप से एक डिजिटल मार्केटर बन सकते हो।

डिजिटल मार्केटिंग जॉब्स [Digital Marketing jobs]

भारत में डिजिटल मार्केटिंग और ई-कॉमर्स के जबरदस्त विकास ने कुशल डिजिटल मार्केटिंग पेशेवरों की मांग में बहुत वृद्धि की है। अब यह उद्योग नए स्नातकों के साथ-साथ अनुभवी पेशेवरों को आकर्षित करता है और विभिन्न कौशल-सेट वाले व्यक्तियों को पेश करने के भरपूर अवसर हैं। भारत में डिजिटल मार्केटर पेशेवरों की मांग और सैलरी में बहुत ही ज्यादा गति से बढ़ रही है।

इस तरह का रुझान देखते हुए यह कोर्स करना बहुत ही फायदे मंद रहेगा और डिजिटल मार्केटिंग जॉब्स के अवसर भी बहुत ज्यादा है तो इसमें करियर बनाना बहुत ही अच्छा विकल्प होगा।

डिजिटल मार्केटिंग सैलरी [Digital Marketing salary]

एक डिजिटल मार्केटर का औसत सैलरी भारत में प्रति माह ₹20,000 से शुरू होता है और उसके कौशल और अनुभव (Skill and Experience) के साथ बढ़ती रहती है। बहुत से अनुभवी डिजिटल मार्केटर 2.5 लाख प्रति माह से भी ज्यादा कमा रहे हैं, इस से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि डिजिटल मार्केटिंग में कितना सैलरी मिल सकती है ।

प्रश्न – उत्तर

डिजिटल मार्केटिंग क्या है इन हिंदी ? (What is Digital Marketing in hindi)

डिजिटल मार्केटिंग, मार्केटिंग का एक रूप है जिसमें पारंपरिक मार्केटिंग में उपयोग किए जाने वाले संचार तौर-तरीकों की पूरी श्रृंखला का उपयोग डिजिटल क्षेत्र में किया जाता है। डिजिटल मार्केटिंग में ऑफलाइन मार्केटिंग, ऑनलाइन मार्केटिंग और मोबाइल मार्केटिंग सहित सभी प्रमुख मार्केटिंग संचार उपकरण शामिल हैं।

डिजिटल मार्केटिंग कैसे करे ?

डिजिटल मार्केटिंग एक तेज़-तर्रार उद्योग है जो आपके छोटे व्यवसाय के लिए तेजी से महत्वपूर्ण हो गया है। इस लेख में डिजिटल मार्केटिंग परिदृश्य कैसे बदल रहा है और आप सोशल मीडिया, पेड सर्च और ईमेल मार्केटिंग की दुनिया में कैसे प्रवेश कर सकते हैं, इसके बारे में जानकारी प्राप्त करें।

निष्कर्ष

मार्केटिंग उत्पाद या सेवा को बेचने के लिए ग्राहकों को उत्पाद या सेवा के मूल्य को संप्रेषित करने की प्रक्रिया है, जिसमें रणनीति विकास, बाजार अनुसंधान, मूल्य, प्रचार, स्थान या वितरण और संदेश का संचार शामिल है। इसे “विचारों, उत्पादों और सेवाओं की अवधारणा, मूल्य निर्धारण, प्रचार और वितरण की योजना बनाने और क्रियान्वित करने की क्रिया या व्यवसाय” के रूप में भी परिभाषित किया जा सकता है।

Leave a Comment

5 × 3 =